Sahity.in से जुड़ें @WhatsApp @Telegram @ Facebook @ Twitter

मेकल का पाण्डव वंश [The Pandava dynasty of Mekal]

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

मेकल का पाण्डव वंश

अमरकंटक के आसपास का क्षेत्र मैकल के नाम से जाना जाता था. यहाँ पाण्डुवंशियों की एक शाखा के राज्य करने के विषय में भरतबल के बम्हनी ताम्रपत्र से जानकारी मिलती है. प्रारम्भिक दो राजाओं जयबल और वत्सराज के साथ कोई राजकीय उपाधि प्रयुक्त नहीं हुई है. इसके बाद नागवल के लिये महाराज उपाधि का प्रयोग किया गया है. इसके पुत्र भरतबल के समय का ऊपर उल्लेखित ताम्रपत्र में इसकी रानी लोकप्रकाशा का उल्लेख है, जो नरेन्द्र की बहन थी. इस नरेन्द्र को शरभपुरीय शासक नरेन्द्र से समीकृत किया जाता है.

का प्राचीन इतिहास Ancient History of Chhattisgarh मेकल का पाण्डव वंश [The Pandava dynasty of Mekal]
छत्तीसगढ़ का प्राचीन इतिहास

मल्हार से इस वंश का एक और ताम्रपत्र मिला है, जिसमें भरतबल के पुत्र शूरबल का उल्लेख मिलता है. यद्यपि पुराणों में मेकल के राजाओं के सम्बन्ध में उल्लेख मिलता है तथापि इस क्षेत्र के प्राचीन इतिहास के सम्बन्ध में कोई जानकारी नहीं मिलती. अभिलेखों से ज्ञात होता है कि पाँचवीं शताब्दी में मैकल क्षेत्र में पाण्डुवंशियों की एक शाखा राज्य करती थी.

इस शाखा का दक्षिण कोसल के साथ प्राचीन सम्बन्ध क्या था. इस सम्बन्ध में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है.

मैकल के पाण्डु वंश

  • राजधानी-अमरकंटक
  • शासक–1) जयबल 2) वत्सबल 3) नागबल 4) भरतबल 5) शुरबल
  • नोट :–कलचुरियों से संघर्ष करने वाला प्रथम वंश ।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave a comment