Sahity.in से जुड़ें @WhatsApp @Telegram @ Facebook @ Twitter

Browsing Tag

छत्तीसगढ़ में ब्रिटिश शासन

छत्तीसगढ़ में 1857 क्रान्ति का प्रभाव

छत्तीसगढ़ में 1857 क्रान्ति का प्रभाव इससे पहले पढ़ें : 1857 की क्रान्ति एवं छत्तीसगढ़ जब 1854 ई. में छत्तीसगढ़ का क्षेत्र ब्रिटिश साम्राज्य का अंग बन गया तब यहाँ किसी विद्रोह की सूचना नहीं मिली, पर अधिकारियों की गलत नीतियों के कारण
Read More...

1857 की क्रान्ति एवं छत्तीसगढ़

1857 की क्रान्ति एवं छत्तीसगढ़ 1757 ई. के प्लासी के युद्ध से बंगाल में एक राजनीतिक सत्ता के रूप में स्थापित अंग्रेज अगले पचास वर्षों में समूचे भारत के एक मात्र और निर्विवाद शक्ति बन गए. यहाँ पैर जमाने के बाद अंग्रेजों ने प्रत्येक
Read More...

छत्तीसगढ़ में ब्रिटिश शासन का प्रभाव

छत्तीसगढ़ में ब्रिटिश शासन का प्रभाव सन् 1741 ई. से 1854 ई. तक छत्तीसगढ़ में नागपुर के भोंसलों का शासन रहा. मराठा शासन काल में छत्तीसगढ़ उपेक्षित रहा. उन्होंने अपने निजी स्वार्थ की पूर्ति के लिए इसे एक उपनिवेश के रूप में देखा और उसका
Read More...

छत्तीसगढ़ में शिक्षा व्यवस्था

छत्तीसगढ़ में शिक्षा व्यवस्था मराठा काल में छत्तीसगढ़ में शिक्षा व्यवस्था का कोई संगठित प्रबन्ध नहीं था. इस क्षेत्र में शिक्षा का प्रसार अल्प था. अंग्रेजी सत्ता की स्थापना के बाद इस दिशा में एक व्यवस्थित प्रयास आरम्भ हुआ. हिन्दी के साथ
Read More...

छत्तीसगढ़ में सार्वजनिक कल्याण व स्थानीय संस्थाएँ

छत्तीसगढ़ में सार्वजनिक कल्याण व स्थानीय संस्थाएँ छत्तीसगढ़ में सार्वजनिक कल्याण 1854-55 ई. में जन सुविधा एवं उसके कल्याण हेतु ब्रिटिश शासन ने यहाँ सत्ता सम्हालते ही सार्वजनिक कल्याण विभाग की स्थापना की. इस विभाग द्वारा सड़क, पुल, नहर,
Read More...

छत्तीसगढ़ में विनिमय

छत्तीसगढ़ में विनिमय मराठा काल में छत्तीसगढ़ में नागपुरी रुपए का चलन था, किन्तु अंग्रेजों ने 5 जून, 1855 से इसका चलन बन्द कर दिया एवं कम्पनी के रुपए को कानूनी तौर पर यहाँ लागू किया. इस समय नागपुरी रुपया कम्पनी के सौ रुपए के बराबर माना
Read More...

छत्तीसगढ़ की डाक व्यवस्था

छत्तीसगढ़ की डाक व्यवस्था अंग्रेजों ने भारत में आधुनिक डाक व्यवस्था का सूत्रपात किया. इस समय मार्ग की सुरक्षा और डाक परिवहन के लिए हरकारे और घोड़ों की व्यवस्था की गई. डाक मार्ग की व्यवस्था हेतु परगना एवं तहसील स्तर के अधिकारियों से
Read More...

छत्तीसगढ़ में पुलिस व्यवस्था

छत्तीसगढ़ में पुलिस व्यवस्था मराठा काल में छत्तीसगढ़ में पुलिस व्यवस्था का कोई विशेष प्रवन्ध न था. 1855 ई. में यहाँ केवल 149 कर्मचारी कार्यरत् थे जिनका वितरण भी यहाँ असमान था. सितम्बर 1856 में नई व्यवस्था लागू की गई जिससे यहाँ के पुलिस
Read More...

छत्तीसगढ़ की न्याय व्यवस्था

छत्तीसगढ़ की न्याय व्यवस्था मराठा शासन के अन्तर्गत न्याय के निर्वहन हेतु न तो निश्चित नियम थे न ही निश्चित अदालतें थी. छत्तीसगढ़ क्षेत्र के ब्रिटिश साम्राज्य के अन्तर्गत आने के पश्चात् यहाँ के लिए नवीन न्याय व्यवस्था का सृजन किया गया
Read More...

छत्तीसगढ़ में ताहूतदारी पद्धति

छत्तीसगढ़ में ताहूतदारी पद्धति छत्तीसगढ़ में ताहूतदारी पद्धति का सूत्रपात केप्टन सेन्डीस (1825-28 ई.) के अधीक्षण काल में हुआ. उन्होंने लोरमी और तरेंगा नामक ताहूतदारी का निर्माण किया. सिरपुर और लवन नामक दो ताहूतदारी का निर्माण मराठा काल
Read More...