Sahity.in से जुड़ें @WhatsApp @Telegram @ Facebook @ Twitter

महानदी प्रवाह तंत्र

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

इस पोस्ट में आप महानदी प्रवाह तंत्र के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे यदि आपको अतिरिक्त जानकारी या कहीं पर आपको त्रुटिपूर्ण लगे तो कृपया पोस्ट के नीचे कमेंट बॉक्स पर लिखकर हमें सूचित करने की कृपा करें

महानदी प्रवाह तंत्र

  • प्रवाह क्षेत्र बिलासपुर ,रायपुर, दुर्ग संभाग
  • महानदी तथा इसकी सहायक नदियां पुरे छत्तीसगढ़ का 48% जल समेट लेती है ।
  • छत्तीसगढ़ की गंगा के नाम से प्रसिद्ध महानदी धमतरी के निकट सिहावा पहाड़ी से निकलकर दक्षिण से उत्तर की ओर बहती हुई बिलासपुर जिले को पार कर पश्चिम से पूर्व की ओर बहती है 
  • तथा उड़ीसा राज्य से होती हुई बंगाल की खाड़ी में गिरती है ।

======================================== 

महानदी 

  • मध्य भारत के मध्य छत्तीसगढ़ राज्य की पहाड़ियों में सिहावा पर्वतसे निकलती है। 
  • इस नदी को ‘उड़ीसा का शोक‘ भी कहा जाता है, जिसका कारण इसकी बाढ़ विभीषिका है। 
  • यह नदी
  • छत्तीसगढ़ में महानदी के तट पर स्थित शहर धमतरी, कांकेर, चारामा, राजिम, चम्पारण, आरंग, सिरपुर, शिवरी नारायण स्थित है
  • महानदी
  • महानदी की प्रमुख सहायक नदियाँ  शिवनाथ, अरपा, हसदो, तांदूला नदीखारून, जोंक, पैरी, माण्ड, ईब, केलो, बोराई, दूध,आदि महानदी में मिलकर इस नदी का हिस्सा बन जाती है।  
  • महानदी की कुल लंबाई 851 किलोमीटर है जिसका 286 किलोमीटर छत्तीसगढ़ में है ।
  • प्रदेश में इसका प्रवाह क्षेत्र धमतरी, महासमुन्द, दुर्ग, रायपुर, बिलासपुर, जांजगीर-चांपा, रायगढ़ एवं जशपुर जिले में है ।
  • प्राचीनकाल में महानदी का नाम चित्रोत्पला , कनकनंदनी, महानन्दा एवं नीलोत्पला था 
  • महानदी का प्रवाह दक्षिण से उत्तर की तरफ है।

महानदी काम्प्लेक्स 

  • सिकासार बाँध (गरियाबंद)
  • सोंढुर बाँध (धमतरी ) 

  
महानदी परियोजना

  • गंगरेल बांध / रविशंकर सागर जलाशय (धमतरी)
  • माडमसिल्ली जलाशय (धमतरी)
  • रुद्री पिक-अप वियर  (धमतरी)
  • दुधावा जलाशय (कांकेर)

महानदी पर बने संगम

  • राजिम  : महानदी + पैरी + सोंढुर
  • शिवरीनारायण (जांजगीर-चम्पा) : महानदी + शिवनाथ + जोंक
  • चंद्रपुर (जांजगीर-चम्पा) : महानदी + मांड + लात

 
महानदी की परियोजना 

  • रुद्री बैराज परियोजना (1915) धमतरी जिले में महानदी पर स्थित है
  • गंगरेल बाँध (रविशंकर जलाशय ) (1979) धमतरी जिले में महानदी पर स्थित है
  • राज्य का सबसे लंबासड़क पुल1830 मीटर  महानदी पर रायगढ़ के नदीगांव में बना है

विशेष – 

  • छत्तीसगढ़ राज्य की गंगा‘ कही जाती है।
  • छत्तीसगढ़ की जीवन रेखा भी कही जाती है।

========================================    

महानदी की प्रमुख सहायक नदियाँ

हसदों नदी

  • यह नदी कोरिया जिले की कैमूर की पहाड़ियों से निकलकर कोरबा, बिलासपुर,चांपा जिलों में बहती हुई महानदी में मिल जाती है।
  • इसकी कुल लंबाई 176 किमी और प्रवाह क्षेत्र 7.210 किमी है। 
  • चांपा से बहती हुई शिवरीनारायण से 8 मील की दूरी में महानदी में मिल जाती है ।
  • इसमें कटघोरा से लगभग 10-12 किमी पर प्रदेश की सबसे ऊंची तथा बड़ी मिनीमाता हसदों बांगो नामक बहुउद्देशीय परियोजना का निर्माण किया गया है ।
  • जलप्रपात अमृतधारा जलप्रपात कोरिया का एक प्राकृतिक झरना है, जो हसदो नदी पर स्थित है। 
  • सर्वमंगला मंदिर -यह स्थान कोरबा शहर में हसदेव नदी के तट पर है

विशेष – एक सर्वे के अनुसार हसदेव नदी छत्तीसगढ़ की सबसे प्रदूषित नदी है। कारण कोरबा, चाम्पा , मनेन्द्रगढ़ जैसे औद्योगिक शहर है।

माण्ड नदी

  • यह नदी सरगुजा जिले की मैनपाट पठार के उत्तरी भाग से निकलती है ।
  • फिर रायगढ़ जिले के घरघोड़ा एवं रायगढ़ तहसील में बहती हुई जांजगीर-चांपा की पूर्वी भाग में स्थित चन्द्रपुर के निकट महानदी में मिल जाती है ।
  • यह सरगुजा,रायगढ़,जशपुर की सीमा से होते हुए जांजगीर-चांपा जिलों में बहती हुई चन्द्रपुर (महानदी+मांड+लात) में महानदी से मिल जाती है।
  • कुरकुट और कोइराज इसकी सहायक नदियां है ।
  • माण्ड नदी घाटी कोयला प्राप्ति का क्षेत्र है|
  • इसकी लम्बाई 155 किलोमीटर है।

केलो नदी

  • इसका उदगम रायगढ़ जिले की घरघोड़ा तहसील में स्थित लुडे़ग पहाडी से हुआ है । 
  • घरघोड़ा एवं रायगढ़ तहसीलों में उत्तर से दक्षिण की ओर बहते हुए उड़ीसा राज्य के महादेव पाली नामक स्थान पर महानदी में विलीन हो जाती है ।

ईब नदी

  • इसका उद्गम जशपुर जिले के पण्डरापाट नामक स्थान पर खुरजा पहाडि़यो से हुआ है ।
  • छ.ग. में इसकी कुल लम्बाई 87 किमी है।यह महानदी की प्रमुख सहायक नदी है । 
  • ढाल के अनुरूप उत्तर से दक्षिण की ओर जशपुर जिले में बहते हुए उड़ीसा राज्य में प्रवेश कर हीराकुंड नामक स्थान से 10 किमी पूर्व महानदी में मिलती है ।
  • मैना, डोंकी इसकी प्रमुख सहायक नदिया है ।
  • इसका अपवाह क्षेत्र सरगुजा के 250 वर्ग किमी तथा रायगढ़ जिले के 3546 वर्ग किमी में है

पैरी नदी 

  • पैरी महानदी की सहायक नदी है। पैरी गरियाबंद तहसील की बिन्द्रानवागढ़ जमींदारी में स्थित भातृगढ़ पहाड़ी से निकलती है। 
  • उत्तर-पूर्व दिशा की ओर करीब 96  कि॰मी॰ बहती हुई राजिम क्षेत्र में महानदी से मिलती है।
  • पैरी नदी धमतरी और राजिम को विभाजित करती है। 
  • पैरी नदी के तट पर स्थित है राजीवलोचन मंदिर। 
  • राजिम में महानदी और सोंढुर नदियों का त्रिवेणी संगम-स्थल भी है।
  • इसकी लम्बाई 90  किलोमीटर है तथा प्रवाह क्षेत्र 3,000 वर्ग मीटर है।
  • पैरी नदी पर सिकासार परियोजना(1995)और सोंढूर नदी पर सोंढूर परियोजना (1979-80) संचालित है|  
  • इसकी प्रमुख सहायक नदी सोंढूर है जो कि नरियल पानी से निकलती है|

जोंक नदी 

  • भातृगढ़ पहाड़ी, तहसील बिंद्रानवागढ़, जिला गरियाबंद से निकलकर महानदी में राजिम में आकर मिलती है।
  • रायपुर जिलें में लम्बाई 90 किलोमीटर है तथा इसका अपवाह क्षेत्र 2480 वर्ग किमी है।
  • यह महासमुन्द के पहाड़ी क्षेत्र से निकलकर रायपुर जिले में बहतें हुए पूर्व की ओर महानदी के दक्षिणी तट पर स्थित शिवरीनारायण के पास महानदी में मिलती है।

सोंढुर नदी

  • नरियल पानी से निकलती है|
  • सोंढूर नदी पर सोंढूर परियोजना (1979-80) संचालित है| 
  • वासतविक नाम मुचकुंदपुर था,वह कालंतर में वरत़़मान नाम मेचका है, 
    सोंढुर नाले पर डैम बनने के कारण सोंढुर नाम परचलन मे आया है
  • सोंढूँर नदी राजिम में  महानदी से मिलती है जहाँ पैरी, महानदी और सोंढूर नदियों का त्रिवेणी संगम-स्थल है।

ताल नदी

  • रायपुर जिले के आदिवासी बहुल देवभोग विकास खंड में बहती है। 
  • इसमें सूखे मौसम के दौरान भी रेत के नीचे पानी का पर्याप्त बहाव रहता है। 
  • यह महानदी की सहायक नदी है।

दूध नदी

  • इसका उदगम कांकेर से लगभग 15 किमी की दूरी पर स्थित मलाजकुण्डम पहाड़ी से हुआ है, जो पूर्व की ओर बहते हुए महानदी में मिल जाती है ।

शिवनाथ नदी

  • छत्तीसगढ़ की सबसे लम्बी नदी 290 Km है।
  • शिवनाथ नदी महानदी की सबसे प्रमुख तथा सबसे बड़ी सहायक नदी है।
  • इसका उद्गम स्थल छत्तीसगढ़ राज्य के राजनांदगांव की उच्च भूमि में अम्बागढ़ तहसील की 625 मीटर ऊँची पानाबरस पहाड़ी से हुआ है।
  • यह नदी राजनांदगांव, दुर्ग, बिलासपुर तथा जांजगीर-चांपा ज़िलों में होते हुए जांजगीर ज़िले के सोन लोहरसी के पास (रायपुर से लगी सीमा पर) महानदी में जाकर मिल जाती है।
  • शिवनाथ नदी अपने उद्गम स्थल से 40 कि.मी. की दूरी तक उत्तर की ओर बहकर ज़िले की सीमा के पूर्व की ओर बहते हुए शिवरीनारायण के निकट महानदी मिलती है।
  • जलग्रहण क्षमता एवं लम्बाई की दृष्टि से यह छत्तीसगढ़ की अत्यन्त महत्त्वपूर्ण नदी है।
  • इस नदी की प्रदेश में लम्बाई 290 कि.मी. है।
  • शिवनाथ नदी राजनांदगांव में 384 वर्ग कि.मी. तथा दुर्ग ज़िले में 22484 वर्ग कि.मी. अपवाह क्षेत्र का निर्माण करती है।
  • इसकी प्रमुख सहायक नदियाँ हांप, आगर, मनियारी, अरपा, खारून, लीलागर, तान्दुला, खरखरा, अमनेरा खोरसी, जमुनियाँआदि प्रमुख हैं।
  • इस नदी के किनारे प्रमुख अम्बागढ़ चौकी, राजनांदगाँव, दुर्ग, धमधा तथा नांदघाट हैं।
  • प्रसिद्ध मोंगरा बैराज परियोजना राजनांदगांव में शिवनाथ नदी पर संचालित है। 

शिवनाथ नदी की प्रमुख सहायक नदियाँ 

 अरपा नदी 

  • अरपा नदी का उदगम पेण्ड्रा लोरमी पठार में स्थित खोडरी पहाड़ी से हुआ है।
  • अरपा नदी का प्रवाह बिलासपुर ज़िले में उत्तर-पश्विम में दक्षिण की ओर होते हुए बलौदा बाज़ार में उत्तर में कुछ दूरी पर बरतोरी के समीप ठाकुरदेवा नामक स्थान पर शिवनाथ नदी में मिल जाती है।
  • छत्तीसगढ़ प्रदेश में इसकी लम्बाई 100किमी है।
  • अरपा नदी की सहायक नदी खारून पर रतनपुर के पास खन्दाघाटनामक जलाशय का निर्माण किया गया है। 

खारून नदी:

  • इस नदी की लम्बाई 84 कि॰मी॰ है।
  • बालोद जिले के दक्षिण पूर्व से निकलकर सिमगा के निकट सोमनाथ नामक स्थान पर शिवनाथ में मिल 
  • जाती है । यह नदी दुर्ग जिले में 19980 वर्ग किमी तथा रायपुर जिले में 2700 वर्ग किमी अपवाह क्षेत्र का निर्माण करती है

मनियारी नदी  

  • लम्बाई 134 KM है
  • छत्तीसगढ़ का एक प्रमुख गाँव ‘तालागाँव’ भी मनियारी नदी के किनारे ही स्थित है।
  • यह दक्षिण-पूर्व भाग में बिलासपुर तथा मुंगेली तहसील की सीमा बनाती हुई प्रवाहित होती है।
  • मनियारी की सहायक नदियाँ आगर, छोटी नर्मदा तथा घोंघा हैं।
  • इनके उदगम लोरमी पठार के सिंहावल नामक स्थल से निकलती है।
  • छोटी नर्मदा का उदगम बेलपा इस क्षेत्र का पवित्र स्थल माना जाता है।
  • मनियारी नदी पर खुड़िया अथवा मनियारी जलाशय का निर्माण किया गया है।

लीलागर नदी

  • इस नदी का उद्गम कोरबा की पूर्वी पहाड़ी से हुआ है। 
  • यह कोरबा क्षेत्र से निकलकर दक्षिण में बिलासपुर और जांजगीर तहसील की सीमा बनाती हुई शिवनाथ नदी में मिल जाती है। 
  • इस नदी की कुल लंबाई 135 किलोमीटर और प्रवाह क्षेत्र 2.333 वर्ग किलोमीटर है। 

 तांदुला नदी

  • यह नदी कांकेर जिले के भानुप्रतापपुर के उत्तर में स्थित पहाड़ियों से निकलती है 
  • यह शिवनाथ की प्रमुख सहायक नदी है।
  • इसकी लम्बाई 64 किलोमीटर है। 
  • तांदुला बांध इसी नदी पर बालोद तथा आदमाबाद के निकट बनाया गया है। 
  • इससे पूर्वी भाग में नहरों से सिंचाई होती है।

बोराई नदी

  • इस नदी का उद्गम स्थल कोरबा के पठार से हुआ है । 
  • यह नदी आगे उद्गम स्थल से दक्षिण दिशा में बहती हुई महानदी में विलिन हो जाती है । 
  • शिवनाथ की प्रमुख सहायक नदी है ।

 खरखरा नदी

  • उदगम डौंडी तहसील जिला बलौदा 

 हाँप नदी 

  • उदगम  कवर्धा जिला के कंदावानी पहाड़ी से 
  • लम्बाई 44 km 

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave a comment