Sahity.in से जुड़ें @WhatsApp @Telegram @ Facebook @ Twitter

छत्तीसगढ़ के जेल प्रशासन

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

इस पोस्ट में आप छत्तीसगढ़ के जेल प्रशासन के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे यदि आपको अतिरिक्त जानकारी या कहीं पर आपको त्रुटिपूर्ण लगे तो कृपया पोस्ट के नीचे कमेंट बॉक्स पर लिखकर हमें सूचित करने की कृपा करें

छत्तीसगढ़ के जेल प्रशासन

  • स्वतंत्रता के पूर्व रायपुर में केन्द्रीय जेल तथा धमतरी ,महासमुंद, बलौदाबाजार ,गरियाबंद और देवभोग में पांच न्यायिक हवालतें बनाई थी।
  • डाॅ. बेन्सले प्रथम अधीक्षक थे, जिन्होंने सन् 1862 में रायपुर जेल का प्रभार ग्रहण किया था।
  • रायपुर के केन्द्रीय जेल का निर्माण सन् 1862 में निर्माण कार्य शुरू किया गया तथा सन् 1868 में पूरा किया गया
  • सन् 1922 में रायपुर केन्द्रीय जेल मे एक सलाहकार मंडल का गठन किया गया .
  • सन् 1923 में रायपुर केन्द्रीय जेल का स्तर घटकर जिला जेल कर दिया गया
  • 2016-17 की स्थिति में छत्तीगसगढ़ राज्य में निम्न  जेल स्थापित है

5 केन्द्रीय    (1) रायपुर       (2) बिलासपुर
                 (3) जगदलपुर (4) अंम्बिकापुर
                 (5) दुर्ग

12 जिला     (1) रायगढ़        (2)  जशपुर
                 (3) बैकुंठपुर       (4)  कोरबा
                 (5) राजनांदगाव  (6) दंतेवाड़ा
                 (7) महासमुंद     (8) जांजगीर
                 (9) धमतरी        (10) कांकेर
                 (11) कबीरधाम  (12) रामानुजगंज

16 उप जिलें 

डोंगरगढ़, बेमेतरा ,संजरी बालोद, गरियाबंद, बलौदाबाजार, सुकमा, नारायणपुर,पेड्रारोड़, सूरजपुर, खैरागढ़, कटघोरा, मनेन्द्रगढ़ , सारंगढ़, सक्ती, बीजापुर, मुंगेली

  • 31 दिसंबर 2017 की स्थिति में राज्य की जेलों की कुल आवास क्षमता 12,321 थी। इसके विरूद्ध जेलों में 19,372 कैदी निरूद्ध थे।
  • इनमें 8,482 दंडित कैदी थे वहीं विचाराधिन बंदियों की संख्या 10,850 थी।
  • छत्तीसगढ़ में जेल अदालत रायपुर में प्रति  शनिवार को लगता है.
  • जिला में जेल प्रशासन का प्रमुख कलेक्टर होता है.
  • छत्तीसगढ़ का एकमात्र खुला जेल मसगाँव , बस्तर है.

इन्हें भी पढ़ें :

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave a comment