Sahity.in से जुड़ें @WhatsApp @Telegram @ Facebook @ Twitter

 गोदावरी अपवाह तंत्र

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

इस पोस्ट में आप गोदावरी अपवाह तंत्र के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे यदि आपको अतिरिक्त जानकारी या कहीं पर आपको त्रुटिपूर्ण लगे तो कृपया पोस्ट के नीचे कमेंट बॉक्स पर लिखकर हमें सूचित करने की कृपा करें

 गोदावरी अपवाह तंत्र (28.62%)

  • प्रदेश के लगभग 28.62 प्रतिशत गोदावरी अपवाह तंत्र का विस्तार है ।
  • गोदावरी महाराष्ट्र प्रदेश के नासिक जिले के त्रयम्बक नामक 1067 मीटर ऊंचे स्थान से निकलकर छत्तीसगढ़ की दक्षिणी सीमा बनाती हुई बहती है । 
  • ‘दक्षिण की गंगा‘ नाम से विख्यात यह नदी प्रदेश के बस्तर जिले  4240 वर्ग किमी तथ राजनांदगांव जिले में 2558 वर्ग किमी अपवाह क्षेत्र बनाती है, तथा लगभग 40 किमी लंबी दूरी में बहती है ।
  • इन्द्रावती, शबरी, चिंता, कोटरी बाघ, नारंगी, मरी, गुडरा, कोभरा, डंकनी और शंखनी आदि इसकी प्रमुख सहायक नदियां है ।

 

गोदावरी नदी की प्रमुख सहायक नदियाँ

इंद्रावती नदी

  • इन्द्रावती नदी कालाहांडी (उड़ीसा) ज़िले के धरमगढ़ तहसील में स्थित 4 हज़ार फीट ऊँची मुंगेर पहाड़ीसे निकली है।
  • यह पूर्व से पश्चिम की ओर बहती हुई जगदलपुर ज़िले से 40 किमी. दूर पर चित्रकोट जलप्रपातबनाती है।
  • जो उड़ीसा के कालहंदी पहाड़ से निकल कर भूपालपटनम् के पास गोदावरी में गिरती है।
  • चित्रकोट नाम का 94 फुट ऊँचा जलप्रपात जगदलपुर के पास स्थित है।
  • महाराष्ट्र से छत्तीसगढ़ की सीमा बनाती हुई दक्षिण दिशा में प्रवाहित होती है और अन्त में छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र, आन्ध्र प्रदेश के सीमा संगम पर भोपालपट्टनम से दक्षिण की ओर कुछ दूरी पर राष्ट्रीय राजमार्ग क्रम 202 पर स्थित भद्रकाली के समीप गोदावरी में मिल जाती है।
  • इसकी प्रदेश में कुल लम्बाई 264किमी. है।
  • इसकी प्रमुख सहायक नदियों में कोटरी, निबरा, बोराडिग, नारंगी उत्तर की ओर से तथा नन्दीराज, चिन्तावागु इसके दक्षिण एवं दक्षिण-पूर्वी दिशाओं में मिलती हैं।
  • दक्षिण-पश्चिम की ओर डंकनी और शंखनी इस नदी में मिलती हैं।
  • इस नदी पर बोध घाटी परियोजना प्रस्तावित है।
  • इस नदी के किनारे प्रमुख नगर जगदलपुर बारसुर है।

कोटरी नदी

  • कोटरी नदी इन्द्रावती नदी की सबसे बड़ी सहायक नदी है। 
  • बालू में सोने के क  कण मिलते है 
    लम्बाई 135 कि.मी. है 
  • इसका उदगम छत्तीसगढ़ राज्य के राजनांदगाँव ज़िले की मोहाला तहसील में हुआ है।
  • इस नदी का अपवाह क्षेत्र दक्षिण-पश्चिम सीमा पर राजनांदगाँव के उच्च भूमि में है।
  • यह उत्तर से दक्षिण की ओर बहती हुई राजनांदगाँव, कांकेर, बस्तर ज़िलों में होती हुई महाराष्ट्र में प्रवेश कर बस्तर ज़िले की सीमा पर इन्द्रावती जो कि ज़िले की सीमा बनाती है तथा इन्द्रावती नदी के उत्तरी छोर में मिल जाती है।

डंकिनी और शंखिनी नदी

  • ये दोनों इन्द्रावती की सहायक नदियां है। डंकिनी नदी किलेपाल एवं पाकनार की डांगरी-डोंगरी से तथा शंखिनी नदी बैलाडीला की पहाड़ी के 4,000 फीट ऊंचे नंदीराज शिखर से निकलती है। इन दोनों नदियों का संगम दन्तेवाड़ा में होता है।

 शबरी नदी

  • इसका उदगम जिला कोरपुर ओडिशा 
  • छत्तीसगढ़ और ओडिशा के बिच सिमा बनती है 
  • बालू में सोने के क  कण मिलते है  जल परिवहन की सुविधा उपलब्ध है
  • यह बस्तर की दक्षिणी पूर्वी सीमा में बहती हुई आन्धप्रदेश के कुनावरम् के निकट गोदावरी में मिल जाती है । 
  • बस्तर जिले में यह 173  किमी लंबाई में बहती है । जिससे 5680 किमी अपवाह क्षेत्र का निर्माण करती है ।

बाघ नदी 

  • इस नदी का उद्गम राजनांदगांव जिले में स्थित पठार से हुआ है ।
  • यह नदी छत्तीसगढ़ और महाराष्ट्र राज्यों के बीच की सीमा बनाती है ।

 नारंगी नदी

यह बस्तर जिले की कोंडागांव तहसील से निकलती है । तथा चित्रकूट प्रपात के निकट इन्द्रावती में विलीन हो जाती है ।

बाघ नदी

  • यह नदी चित्रकूट प्रपात के निकट इन्द्रावती नदी से मिलती है। 

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave a comment