Sahity.in से जुड़ें @WhatsApp @Telegram @ Facebook @ Twitter

छत्तीसगढ़ संभाग का गठन

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

छत्तीसगढ़ संभाग का गठन

1861 में मध्य प्रांत के गठन के समय छत्तीसगढ़ क्षेत्र के प्रशासन को चीफ कमिश्नर के अधीन रखा गया. सन् 1862 ई. में छत्तीसगढ़ को स्वतंत्र संभाग का दर्जा दिया गया जिसका मुख्यालय रायपुर बनाया गया.
इस समय संबलपुर को मध्य प्रांत में शामिल कर रायपुर संभाग का हिस्सा बनाया गया. इस तरह छत्तीसगढ़ को कुल तीन जिलों रायपुर, बिलासपुर तथा संबलपुर में विभक्त किया गया. रायपुर तथा बिलासपुर में दो डिप्टी कमिश्नर रखे गए. यह प्रशासनिक व्यवस्था बिना किसी विशेष परिवर्तन के 1905 तक बनी रही.


भौगोलिक पुनर्गठन एवं प्रशासनिक परिवर्तन-

1905 ई. में कुछ विशेष परिवर्तन किए गए. इसमें संबलपुर जिले को तत्कालीन बंगाल प्रांत (बंगाल, बिहार, ओडिशा) के ओडिशा में मिला दिया गया और उसके बदले बंगाल प्रांत के बिहार के छोटानागपुर क्षेत्र की पाँच रियासतें-चांगभखार, कोरिया, सरगुजा, उदयपुर और जशपुर को लेकर मध्य प्रान्त में सम्मिलित कर दिया गया. इस व्यवस्था के कारण छत्तीसगढ़ के प्रशासनिक ढाँचे में जो नवीन परिवर्तन आया, उसके अनुसार यहाँ तीन जिले रायपुर, बिलासपुर और दुर्ग निर्मित किए गए. छत्तीसगढ़ संभाग का नाम यथावत् बना रहा. उसका मुख्य अधिकारी कमिश्नर कहलाया. यह प्रशासनिक व्यवस्था मोटे तौर पर सन् 1947 ई. तक जारी रही.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave a comment