Sahity.in से जुड़ें @WhatsApp @Telegram @ Facebook @ Twitter

छत्तीसगढ़ी काव्य साहित्य का विकास

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

इस पोस्ट में आप छत्तीसगढ़ी काव्य साहित्य का विकास के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे यदि आपको अतिरिक्त जानकारी या कहीं पर आपको त्रुटिपूर्ण लगे तो कृपया पोस्ट के नीचे कमेंट बॉक्स पर लिखकर हमें सूचित करने की कृपा करें

छत्तीसगढ़ी काव्य साहित्य का विकास

छत्तीसगढ़ी काव्य, छत्तीसगढ़ी लोक साहित्य की संस्कृति व हिंदी के शिष्ट काव्य की सभ्यता का समन्वित स्वरूप है। छत्तीसगढ़ी शिष्ट साहित्य का प्रारम्भ 20 वीं शताब्दी से माना जाता है। 

यद्धपि छत्तीसगढ़ी के प्रथम प्रमाणित कवि को लेकर समिक्षोंको में मतभेद है तथापि छत्तीसगढ़ी लोक साहित्य की परम्परा को अलग कर दिया जाये तो छत्तीसगढ़ी – कविता का इतिहास सौ वर्षों से अधिक का नहीं है।

छत्तीसगढ़ी भाषा के प्रथम कवि कौन हैं इसके मनांतर विभिन्न प्रकार मतभेद हैं विदद्वानों और समालोचकों के बीच जो की इस प्रकार है

श्री हेमनाथ के अनुसार – उन्होंने कबीरदास के शिष्य धर्मदास को कहा है जिसका ( खण्डन- डॉ. विनय पाठक द्वारा किया गया। 

डॉ. नरेंद्र देव वर्मा – पं. सुंदरलाल शर्मा को  रचना –  दानलीला , प्रह्लाद चरित्र, करुणा पच्चीसी, सतनामी , भजन माला आदि। 

श्री नन्दकिशोर तिवारी – पं. लोचन प्रसाद पाण्डेय को ( छत्तीसगढ़ी कविता के लिए 

डॉ. विनय कुमार पाठक  – नरसिंह दास वैष्णव को शिवायन ( 1904 ) की रचना के लिए।

इस आधार पर डॉ. विनय एवं अधिकांश छत्तीसगढ़ी और इसके रचनाकार नरसिंह दास को छत्तीसगढ़ी का प्रथम कवि मानते हैं। 

छत्तीसगढ़ी काव्य साहित्य को तीन कालों में विभाजित किया जा सकता है

  1. शैशव काल – ( सन 1900 – 1925 तक ) प्रमुख काव्य साहित्यकार – पं. सुंदरलाल शर्मा, नरसिंह दास वैष्णव, लोचन प्रसाद पाण्डेय , शुकलाल पाण्डेय आदि।
  2. छत्तीसगढ़ी साहित्य का विकास काल – ( 1925 – 1950 तक ) इस काल के अंतर्गत- प्यारेलाल गुप्त, द्वारिका प्रसाद तिवारी ‘वीप्र’ आदि आते हैं।
  3. छत्तीसगढ़ी साहित्य का प्रगति प्रयोगवादी युग – ( 1950 से अब तक )

इस काल के अंतर्गत- कुंजबिहारी चौबे, हेमनाथ यदु , हरी ठाकुर , विनय कुमार पाठक आदि आते हैं। हिंदी के आधुनिक काल की ही तरह छत्तीसगढ़ी में भी आधुनिक काल में कव्य साहित्य व गद्य साहित्य का सम्यक विकास हुआ।  

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave a comment