Sahity.in से जुड़ें @WhatsApp @Telegram @ Facebook @ Twitter

छत्तीसगढ़ी वाद्ययंत्र

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

इस पोस्ट में आप छत्तीसगढ़ी वाद्ययंत्र के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे यदि आपको अतिरिक्त जानकारी या कहीं पर आपको त्रुटिपूर्ण लगे तो कृपया पोस्ट के नीचे कमेंट बॉक्स पर लिखकर हमें सूचित करने की कृपा करें

छत्तीसगढ़ में जनजातियाँ
जनजातियों का विवाह पद्धतियाँ
जनजातीय नृत्य
जनजातीय त्यौहार
छत्तीसगढ़ी लोककला
छत्तीसगढ़ी लोक पर्व
छत्तीसगढ़ी मेले
छत्तीसगढ़ी गहने
छत्तीसगढ़ी ब्यंजन
छत्तीसगढ़ी वाद्ययंत्र
छत्तीसगढ़ी बोलियाँ
छत्तीसगढ़ी साहित्य
छत्तीसगढ़ी शब्दकोष

छत्तीसगढ़ी वाद्ययंत्र

मांदल

  • ढपरा , निशान , नगाड़ा ,तुड़बुड़ी , मोहरी -शहनाई , मांदर जैसे पारपरिक वाद्य तो समूचे छत्तीसगढ़ में प्रचलन में हैं।

बांस 

बांस अहीरों द्वारा गाए जाने वाले बांस गीत में बजाया जाने वाला सुषिर वाद्य है। यह बांसुरी का एक अन्य रूप है जिसमें ध्वनि उत्पन्न करने के लिए कोई नक्का नहीं होता , बांस में इस प्रकार फूंक मारी जाती है कि उससे ही ध्वनि उत्पन्न हो जाये। 

अलगोजा

  • यह बांस का बना बांसुरी जैसा सुषिर वाद्य है।
  • यह अहीर समुदाय के लोगोंद्वारा बांसगीत के साथ बजाया जाता है। 

ढोलक –

  •  यह एक प्रमुख ताल वाद्य है।
  • ढोलक को अधिकतर हाथ से बजाया जाता है।
  • यह आम, बीजा, शीशम, सागौन या नीम की लकड़ी से बनाई जाती है।
  • लकड़ी को पोला करके दोनों मुखों पर बकरे की खाल डोरियों से कसी रहती है।
  • डोरी में छल्ले रहते हैं, जो ढोलक का स्वर मिलाने में काम आते हैं।
  • चमड़े अथवा सूत की रस्सी के द्वारा इसको खींचकर कसा जाता है।

मंजीरा –

  • मंजीरा, कांसे से बानी दो छोटी डिस्क से बना वाद्य है।
  • सामान्यतः यह दौनों डिस्क आपस में एक डोरी द्वारा बंधी रहती हैं

झांझ –

  • इसका आकर मंजीरे से बड़ा होता है और इसके डिस्क पीतल की चादर को काटकर एवं रूप देकर बनायेजाते हैं।गोलाकार समतल या उत्तलाकारधातु  की तश्तरी जैसा ताल वाद्य,इसके जोड़े को एक-दूसरे से रगड़ते हुए टकराकर बजाया जाता है.
  • अहीर समुदाय मेंयह एक लोकप्रिय वाद्य है।  यह गायन व नृत्य के साथ बजायी जाती है।

ढफली –

  • ढफली , खँजड़ी या खँजरी  एक छोटा वाद्य यंत्र  है जो दो ढाई इंच चौड़ी लकड़ी  की बनी गोलाकार परिधि के एक ओर चमड़े से मढ़ा होता है तथा दूसरी ओर खुला रहता है।
  • इसे एक हाथ में पकड़कर दूसरे हाथ से थाप देकर बजाया जाता है।
  • इस वाद्य का प्रयोग मुख्यत: गीत गाकर भीख माँगने वाले भिखारी अथवा लोकगीत गायक तथा साधु भजन गाने के लिए करते हैं।
  • बन्दर की खाल से मढ़ी ढफली सर्वोत्तम मानी जाती है।

खंजरी

बांसुरी –

  •  यह प्राकृतिक बांस से बनायी जाती है, इसलिये लोग उसे बांसुरी भी कहते हैं। बाँसुरी के शरीर पर कुल सात छेद खोदे जाते हैं।
  • पहला छेद मुंह से फूंकने के लिये छोड़ा जाता है, बाक़ी छेद अलग अलग आवाज़ निकले का काम देते हैं।

सारंगी

  • यह एक तंतु वाद्य है जिसे गज की सहायता से बजाय जाता है
  • लकड़ी , बंस,घोड़े के बाल , घुँघरू, मिट्टी अथवा लकड़ी के कटोर एवं गोह की खाल से बना यह वाद्य घुमन्तु भजन गयकों का प्रिय वाद्य है।  

तम्बूरा

  • तम्बूरा एक तंतु वाद्य है जिसे उंगलियों  की सहायता से बजाय जाता है। 
  • लकड़ी, बंस, घोड़े के बाल ,लोहे का तार  घुँघरू, तूमा के  कटोर एवं गोह की खाल सेबना यह वाद्य घुमन्तु भजन गयकों का प्रिय वाद्य है

तम्बूरा 

चटकोला –

  • चटकोला, खड़ताल का ही एक अन्य रूप है।
  • लकड़ी के बने इस वाद्य में पीतल के बने वृताकार डिस्क लगे रहते हैं ।
  • जब चटकोला के दौनों हिस्से आपस में टकराते है तब लकड़ी की सतहें और पीतल के यह डिस्क आपस में टकराकर खट – खट मय झंकार उत्पन्न करते हैं।

हारमोनियम –

  • हारमोनियम एकसंगीत वाद्य यंत्र  है जिसमें वायु प्रवाह किया जाता है और भिन्न चपटी स्वर पटलों को दबाने से अलग-अलग सुर की ध्वनियाँ निकलती हैं।
  • इसमें हवा का बहाव हाथों के ज़रिये किया जाता है, हालाँकि  हारमोनियम का आविष्कार यूरोप में किया गया था 
  • हारमोनियम को सरल शब्दों में “पेटी बाजा” भी कहा जाता है।

हारमोनियम

तबला –

  • तबला भारतीय संगीत में प्रयोग होने वाला एक तालवाद्य है ।
  • तबले दो भागों को क्रमशः तबला तथा डग्गा या डुग्गी कहा जाता है।
  • तबला शीशम  की लकड़ी से बनाया जाता है।
  • तबले को बजाने के लिये हथेलियों तथा हाथ की उंगलियों का प्रयोग किया जाता है।

तबला

झंकार – 

  • झंकार का मूल आकर बच्चों द्वारा बजाए जाने वाले झुन – झुने का बड़ा रूप होता है।
  • टिन के पतरे से बने दो बड़े झुन -झुने जिनके हत्थे लकड़ी के होते हैं।
  • इन्हे दौनों हाथों में पकड़कर बजाया जाता है।
  • यह झन्न -झन्न ध्वनि की ताल उत्पन्न करते हैं।

बेंजो  

  बेंजो

घुँघरू

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave a comment