Sahity.in से जुड़ें @WhatsApp @Telegram @ Facebook @ Twitter

Browsing Category

छत्तीसगढ़

छत्तीसगढ़

वीर हनुमान सिंह

नागपुर का अस्थायी सैन्य दल जो रायपुर में स्थित था उसकी तीसरी टुकड़ी में हनुमान सिंह मेगजीन लश्कर के पद पर नियुक्त था. वीर हनुमान सिंह 10 दिसम्बर सन् 1857 को सोनाखान के देशभक्त जमींदार वीर नारायण सिंह को राजद्रोह के अपराध में
Read More...

छत्तीसगढ़ महतारी दुलार छात्रवृत्ति योजना

छत्तीसगढ़ महतारी दुलार छात्रवृत्ति योजना छत्तीसगढ़ सरकार कोविड-19 के कारण अनाथ या निराश्रित बच्चों के लिए महतारी दुलार छात्रवृत्ति योजना के तहत निजी स्कूलों का सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों को छात्रवृत्ति प्रदान करेगी। कक्षा एक
Read More...

छत्तीसगढ़ गोधन न्याय योजना

छत्तीसगढ़ गोधन न्याय योजना राज्य की महत्वाकांक्षी गोधन न्याय योजना दिनांक 20 जुलाई, 2020 को हरेली पर्व के शुभ अवसर पर प्रारंभ की गई। इस योजना के अंतर्गत राज्य में पशुधन के संरक्षण एवं संवर्धन के लिए गांव में गोठान स्थापित किया जा रहे
Read More...

राजीव गांधी किसान न्याय योजना वर्ष 2021

राजीव गांधी किसान न्याय योजना वर्ष 2021 पूर्व प्रधानमंत्री स्व. श्री राजीव गांधी जी के शहादत दिवस (21 मई को 1500 करोड़ रूपए की प्रथम किश्त जारी योजना के प्रमुख बिन्दु खरीफ वर्ष 2020-21 में किसानों से क्रय किये गये धान पर 9,000
Read More...

उदयपुर का विद्रोह

उदयपुर का विद्रोह इससे पहले पढ़ें : रायपुर में सैन्य विद्रोह : हनुमान सिंह का शौर्य सरगुजा राजपरिवार की एक शाखा उदयपुर में राज्य कर रही थी. यहाँ 1818 ई. में ब्रिटिश संरक्षण काल में कल्याण सिंह राजा थे. 1852 ई. में यहाँ के राजा और
Read More...

रायपुर में सैन्य विद्रोह : हनुमान सिंह का शौर्य

रायपुर में सैन्य विद्रोह : हनुमान सिंह का शौर्य इससे पहले पढ़ें : सोनाखान का विद्रोह  10 दिसम्बर, 1857 को वीर नारायण सिंह की शहादत के बाद 10 जनवरी, 1858 तक अंचल में घोर अशांति बनी रही. नारायण सिंह को फाँसी देने की घटना से छत्तीसगढ़
Read More...

सम्बलपुर के सुरेन्द्र साय का विद्रोह

सम्बलपुर के सुरेन्द्र साय का विद्रोह इससे पहले पढ़ें : सोनाखान का विद्रोह  सन् 1827 ई. में सम्बलपुर के चौहान राजा महाराजसाय की मृत्यु बिना उत्तराधिकारी के हो गई. चौहानवंश की परम्परा के अनुसार सम्बलपुर की राजगद्दी पर उनकी राजपुर-खिंडा
Read More...

सोनाखान का विद्रोह

सोनाखान का विद्रोह मानवता एवं शौर्य के प्रतीक छत्तीसगढ़ के प्रथम शहीद वीर नारायण सिंह इससे पहले पढ़ें : छत्तीसगढ़ में 1857 क्रान्ति का प्रभाव सोनाखान जमींदारी- सोनाखान के जमींदार बिंझवार राजपूत थे. यह जमींदारी क्षेत्र कलचुरियों
Read More...

छत्तीसगढ़ में 1857 क्रान्ति का प्रभाव

छत्तीसगढ़ में 1857 क्रान्ति का प्रभाव इससे पहले पढ़ें : 1857 की क्रान्ति एवं छत्तीसगढ़ जब 1854 ई. में छत्तीसगढ़ का क्षेत्र ब्रिटिश साम्राज्य का अंग बन गया तब यहाँ किसी विद्रोह की सूचना नहीं मिली, पर अधिकारियों की गलत नीतियों के कारण
Read More...

1857 की क्रान्ति एवं छत्तीसगढ़

1857 की क्रान्ति एवं छत्तीसगढ़ 1757 ई. के प्लासी के युद्ध से बंगाल में एक राजनीतिक सत्ता के रूप में स्थापित अंग्रेज अगले पचास वर्षों में समूचे भारत के एक मात्र और निर्विवाद शक्ति बन गए. यहाँ पैर जमाने के बाद अंग्रेजों ने प्रत्येक
Read More...