Sahity.in से जुड़ें @WhatsApp @Telegram @ Facebook @ Twitter

छत्तीसगढ़ पुरस्कार और सम्मान

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

इस पोस्ट में आप छत्तीसगढ़ पुरस्कार और सम्मान के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे यदि कहीं पर आपको त्रुटिपूर्ण लगे तो कृपया पोस्ट के नीचे कमेंट बॉक्स पर लिखकर हमें सूचित करने की कृपा करें

छत्तीसगढ़ शासन ने राज्य में महापुरुषों, स्वतंत्रता सेनानियों व अन्य विभूतियों की स्मृति में 12 पुरस्कारों की स्थापना की है. इन पुरस्कारों की स्थापना का उद्देश्य किसी व्यक्ति अथवा संस्था को उसकी लगन, साधना एवं कर्मठता से हासिल उपलब्धि के लिए यथोचित सम्मान करना है. साथ ही उन महान् विभूतियों, जिनके नाम से ये पुरस्कार स्थापित किए गए हैं, के व्यक्तित्व और कृतित्व से लोगों को परिचित कराना है. इन पुरस्कारों को छत्तीसगढ़ राज्य स्थापना की प्रथम वर्षगाँठ पर ‘एक नवम्बर’ को प्रदान किया गया.

शहीद वीरनारायण सिंह स्मृति पुरस्कार

प्रदेश के महासमुंद जिले के पिथौरा ब्लॉक के ग्राम सोनाखान के शहीद वीरनारायण सिंह को छत्तीसगढ़ का प्रथम स्वतंत्रता संग्राम सेनानी माना जाता है. प्रदेश शासन के ‘आदिम जाति कल्याण विभाग ने उनकी स्मृति में पुरस्कार की स्थापना की है. इसके तहत् छत्तीसगढ़ में आदिवासियों में सामाजिक चेतना जाग्रत करने तथा उनके उत्थान के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाले व्यक्तियों अथवा स्वैच्छिक संस्थाओं को दो लाख रुपए नगद एवं प्रशस्ति पत्र दिया जाता है.

पं. सुंदरलाल शर्मा पुरस्कार

छत्तीसगढ़ के गांधी कहे जाने वाले पं. सुंदरलाल शर्मा का जन्म 21 दिसम्बर, 1881 को राजिम के ग्राम चमसूर में हुआ था. उन्हें सामाजिक एवं साहित्यिक चेतना का प्रतीक माना जाता है. शासन के शिक्षा विभाग ने संस्कृति विभाग के समन्वय से साहित्य के क्षेत्र में उत्कृष्ट लेखन कार्य के लिए रचनाकारों को सम्मानित करने तथा ऐसे रचनाधर्मी प्रतिभावान साहित्यकारों के योगदान को प्रोत्साहित करने, मान्यता देने एवं प्रतिष्ठा से विभूषित करने के उद्देश्य से पं. सुंदरलाल शर्मा पुरस्कार, दो लाख रुपये नगद एवं प्रशस्ति-पत्र किसी व्यक्ति अथवा संस्था को देने की घोषणा की है.

डॉ. खूबचंद बघेल ‘कृषक रत्न पुरस्कार’-

छत्तीसगढ़ राज्य निर्माण के प्रथम स्वप्नदृष्टा डॉ. खूबचंद बघेल का जन्म 19 जुलाई, 1900 को रायपुर के ग्राम पथरी में हुआ था. उनकी स्मृति में कृषि विभाग ने प्रदेश में कृषि क्षेत्र में सर्वोत्तम कार्य करने वाले किसान को पुरस्कार स्वरूप दो लाख रुपए नगद एवं कृषक रत्न देने घोषणा की.

गुरु घासीदास ‘सामाजिक चेतना तथा दलित उत्थान पुरस्कार’-

गिरौदपुरी में जन्मे महान समाज सुधारक तथा सतनामी समाज के प्रमुख गुरु घासीदास की स्मृति में आदिम जाति कल्याण विभाग ने पुरस्कार देने की घोषणा की है. इसके तहत दो लाख रुपये नगद एवं प्रशस्ति पत्र दिया जाएगा. यह पुरस्कार प्रादेशिक स्तर पर सामाजिक चेतना जाग्रत करते हुए दलितों के उत्थान के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाले और अभी भी उस क्षेत्र में परिणाममूलक ढंग से निरंतर सक्रिय व्यक्ति अथवा
संस्था को प्रदान किया जाएगा.

पं. रविशंकर शुक्ल पुरस्कार-

अविभाज्य मध्य प्रदेश के प्रथम मुख्यमंत्री पं. रविशंकर शुक्ल की स्मृति में सामान्य प्रशासन विभाग ने छत्तीसगढ़ में साम्प्रदायिक सौहार्द एवं जातीय सद्भावना के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य के लिए दो लाख रुपये का पुरस्कार स्थापित किया है.

छत्तीसगढ़ के पदम् पुरस्कार विजेता

श्री हबीब तनवीर –

पद्मश्री -1983

पद्मभूषण -2002

हबीब तनवीर जी छत्तीसगढ़ के प्रमुख रंगकर्मी रहे है और राज्यसभा के सदस्य भी रहे है। इन्होने 1954 में “हिंदुस्तान थियेटर” की स्थापना की और 1959 में “नया थियेटर” स्थापित किया था। चरणदास चोर, आगरा बाजार,माटी की गाड़ी आदि का मंचन करने का श्रेय इन्ही को जाता है। इनका मंचन करने का तरीका और से कई अलग था। 1983 में हबीब तनवीर को डी.लिट् की उपाधि संगीत विश्व विद्यालय खैरागढ़ से से दिया गया था।

श्रीमति तीजन बाई –

पद्मश्री -1987

पद्मभूषण – 2003

तीजन बाई एक पंडवानी गायिका है जो पाटन, दुर्ग की रहने वाली है। इन्होने छत्तीसगढ़ का नाम देश- विदेशो में विख्यात किया है। ये वेदमती शैली की पंडवानी गायिका है। तीजन बाई को डी.लिट् की उपाधि गुरुघासीदास विश्व विद्यालय से प्राप्त है। इनके गुरु का नाम झाडूराम देवांगन एवं रावण झीवन है।

पंडित मुकुटधर पांडेय –

पदमश्री- 1976

30 सितम्बर 1895 बालपुर (जांजगीर-चापा) में प. मुकुटधर पांडेय का जन्म हुआ। “प. मुकुटधर पांडेय स्मृति शिक्षक सम्मान” इन्ही के सम्मान में दिया जाता है। इन्होने छायावादी काव्यधारा की पहली कविता “कुर्री के प्रति” लिथी।

छत्तीसगढ़ के पदम् पुरुष्कार विजेता  अन्य व्यक्ति-

व्यक्ति वर्ष
राजमोहनिदेवी 1989
धर्मपाल सैनिक 1992
डॉ. त्रयम्बक दबके 2004
श्री पुनाराम निषाद 2005
सुश्री मेहरुनिशा परवेज 2005
डॉ. महादेव प्रसाद पांडेय 2007
जार्ज मार्टिन 2008-09
गोविंदराम निर्मलकर 2009
डॉ.सुरेंद्र दुबे 2011
श्री सत्यदेव दुबे 2011
डॉ. पुखराज बाफना 2011
श्रीमती फुलबासन 2012
श्रीमती शमशाद बेगम 2012
श्री अनुज शर्मा 2013

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave a comment